• BUNDELKHND PRATIBHA SAMMAN

आवेदन प्रक्रिया

इस आयोजन में प्रतिभाग करने के लिए निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करना होगा, इस हेतु विद्यार्थी अपने वर्ग के अनुसार निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करें। रजिस्ट्रेशन करते ही विद्यार्थी के रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर पर एक लाॅगिन आई.डी. भेज दिया जायेगा, जिसके माध्यम से वे निर्धारित तिथि पर ऑनलाइन (मोबाइल पर) परीक्षा देंगे।

CLICK HERE REGISTRATION FOR BUNDELKHND PRATIBHA SAMMAN 2022


Arun Nigam

बुन्देलखण्ड प्रतिभा सम्मान

काली चरण निगम इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी , बाँदा द्वारा प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले बुन्देलखण्ड के सबसे बड़े सम्मान ‘बुन्देलखण्ड प्रतिभा सम्मान’ के 11वें संस्करण का प्रारूप कोविड-19 के कारण विवशतावश बदल गया है। पूर्व के संस्करणों से भिन्न इस संस्करण के अन्तर्गत आयोजित होने वाली परीक्षाएं पूर्णतः ऑनलाइन होंगी। इस वर्ष परीक्षा के क्षेत्र का विस्तार करते हुए इसमें 10वीं, 12वीं एवं स्नातक के अंतिम वर्ष में अध्ययनरत विद्यार्थी प्रतिभाग कर सकेंगे। उन सभी की प्रतिभाओं को परखकर उनको सम्मानित किया जायेगा। साथ ही विजेताओं को उनके आगे की शिक्षा के लिए ‘स्कॉलरशिप’ भी दी जायेगी।

हमें आशा ही नहीं वरन पूर्ण विश्वास है कि पूर्व के वर्षों की भांति इस वर्ष भी हमें बुन्देलखण्ड के समस्त शैक्षणिक संस्थानों का सहयोग प्राप्त होगा। ‘बुन्देलखण्ड प्रतिभा सम्मान’ के विगत 10 सफल आयोजनों हेतु हमें जो सहयोग इस क्षेत्र के विद्यालयों द्वारा प्राप्त हुआ है, उसके लिए हम सभी के प्रति हार्दिक आभार प्रकट करते हैं, विशेषतः विद्यालयों के प्रधानाचार्यों, अध्यापकों एवम् अन्य कर्मचारियों को धन्यवाद देना चाहते हैं, जिनकी निष्ठा एवं विश्वास से आज यह प्रतिभा सम्मान अपने विस्तृत रूप में परिणति हो सका है। धन्यवाद!


BPS पाठ्यक्रम

BPS SYLLABUS

बुन्देलखण्ड प्रतिभा सम्मान ऑनलाइन परीक्षा के लिये महत्वपूर्ण दिशानिर्देश

यह एक ऑनलाइन परीक्षा प्रणाली है पूरी तरह से कम्प्यूटरीकृत, उपयोगकर्ता के अनुकूल उन्नत सुरक्षा सुविधाओं के साथ इसे निष्पक्ष, पारदर्शी और मानकीकृत बनाती है। प्रतियोगी अपने घर के सुरक्षित वातावरण से डेस्क्टाॅप/लैपटाॅप/स्मार्ट फोन और इन्टरनेट कनेक्शन के साथ परीक्षा दे सकता है। प्रतियोगी से अनुरोध है कि वह सभी निर्देशों का पालन करे- ऑनलाइन परीक्षा के लिये महत्वपूर्ण निर्देश-

  • परीक्षा केवल बहुविकल्पी प्रश्नों पर आधारित होगी।
  • सभी प्रश्न अनिवार्य हैं और सभी के अंक समान हैं। प्रत्येक प्रश्न 3 अंक का होगा।
  • परीक्षा में प्रश्नों की कुल संख्या 60 है।
  • परीक्षा की अवधि मात्र 1 घंटा है।
  • परीक्षा में शामिल विषय दिये गये पाठ्यक्रम के अनुसार होगें।
  • परीक्षा 1/3 निगेटिव मार्किंग पर आधारित होगी। (तीन गलत जवाब देने पर एक सही जवाब का अंक काट लिया जायेगा।)
  • छात्रों को प्रत्येक प्रश्न के चार जवाबों में से केवल एक सही जवाब पर क्लिक करना ळें
  • छात्रों को लाॅगिन करने हेतु यूजरनेम जो कि उनका मोबाइल नम्बर होगा और ओटीपी उसी पंजीकृत मोबाइल नम्बर पर भेजा जायेगा।
  • परीक्षा का समय तभी प्रारम्भ होगा जब परीक्षार्थी द्वारा ‘START EXAM’’ का बटन दबाया जायेगा।
  • परीक्षार्थी परीक्षा के दौरान किसी भी समय अपना जवाब बदल सकता है और उसको सुरक्षित(SAVE) कर सकता है।
  • परीक्षा की समय सीमा स्क्रीन के ऊपरी दायें कोने में दिखाई जायेगी।
  • दिये गये परीक्षा की समय सीमा समाप्त होने पर परीक्षा स्वतः ही समाप्त हो जायेगी। यदि परीक्षार्थी परीक्षा समय से पहले ही परीक्षा समाप्त कर लेता है तो वह ‘‘END TEST’’ का बटन दबाकर परीक्षा छोड़ सकता है।

परीक्षा का समय

माह फरवरी 2022

परीक्षा दो चरणों में होगी। प्रथम चरण में वस्तुनिष्ठ प्रश्नों पर आधारित 1 घंटे की ऑनलाइन परीक्षा होगी। इसमें प्रत्येक जनपद से वर्गवार चयनित प्रतिभागियों से निर्णायक मण्डल द्वारा फोन पर साक्षात्कार लिया जायेगा, तत्पश्चात जनपद से वर्गवार विजेताओं व सम्पूर्ण बुन्देलखण्ड के वर्गवार विजेताओं के नामों की घोषणा www.bundelkhandpratibhasamman.com वेबसाइट पर की जायेगी। प्रतियोगिता के प्रथम चरण में सम्पूर्ण बुन्देलखण्ड के 10 जिलों से वर्गवार प्रथम व द्वितीय विजेताओं का चयन होगा। इस प्रकार 10वीं, 12वीं मैथ, 12वीं बायो तथा स्नातक वर्ग से कुल 80 प्रतिभागी (40 प्रथम + 40 द्वितीय) द्वितीय चरण में प्रतिभाग करेंगे। जिसमें से ‘बुन्देलखण्ड प्रतिभा सम्मान-2022’ के विजेता का चयन होगा।

पुरस्कार वितरण व सम्मान समारोह

KCNIT संस्थान द्वारा आयोजित होने वाले भव्य समारोह में विशिष्ट अतिथियों द्वारा ‘बुन्देलखण्ड प्रतिभा सम्मान’ के विजेताओं को नगद पुरस्कार राशि, ट्राफी, सर्टिफिकेट एवं गिफ्ट हैम्पर देकर उनका सम्मान किया जायेगा।


Our Partner

बुंदेलखंड न्यूज़

बुंदेलखंड की अनगढ़, पथरीली, कंकरीली धरती रत्न प्रसवा रही है। तुलसी की कर्मभूमि, राम की लीला स्थली, आल्हा-ऊदल और झाँसी की रानी की यह वीर भूमि कितने ही ऐतिहासिक महत्व के स्थलों को स्वयं में समेटे एक बेशकीमती नगीने से कम नहीं है। समय की आंधी ने कुछ ऐसी गर्त जमा दी है कि हम इसके धार्मिक, सांस्कृतिक, ऐतिहासिक महत्व को भूलने लगे हैं। bundelkhandnews.com आह्वान कर रहा है नयी पीढ़ी के, नयी सोच वाले उन युवा जौहरियों का जो इस अनगढ़ हीरे को तराश कर और इसके सांस्कृतिक, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व को परख कर पुन: इसे एक बेशकीमती नगीना बनायंगे।

Photo Gallery

Media Coverage

Interested in discussing?